प्रबंधन

डॉ.तूलिका गुप्ता

निदेशक, आईआईसीडी


ईमेल आईडीः director@iicd.ac.in

डॉ. तूलिका गुप्ता, निदेशक, भारतीय शिल्प संस्थान, शिल्प और डिज़ाइन के क्षेत्र में एक शोधकर्ता और शिक्षक हैं। ग्लास्गो विश्वविद्यालय से कला के इतिहास (ड्रेस एंड टेक्सटाइल्स) विषय में पीएच.डी.; लेडी इरविन कॉलेज, नई दिल्ली, भारत से टेक्सटाइल और क्लोदिंग विषय में एम.एससी.; टेक्सटाइल रिसर्च सेंटर, कोपेनहेगन, डेनमार्क के साथ पीएचडी फैलो के रूप में उनकी साझेदारी और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय, यूके से ’आर्कियोलॉजिकल टेक्सटाइल्स’ में एक छोटा कोर्स, इन सभी उपाधियों के माध्यम से उन्होंने इस क्षेत्र में एक शोधकर्ता के रूप में अनुभव प्राप्त किया है।उन्होंने 1996 में एक डिज़ाइनर के रूप में अपना करियर शुरू किया, जब उन्होंने एनआईएफटी, नई दिल्ली में एक संकाय सदस्य के रूप में शिक्षा के क्षेत्र में प्रवेश किया। उन्होंने राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान, नई दिल्ली में अपना समय व्यतीत किया, जिसने भारत में डिज़ाइन शिक्षा और इसके भविष्य की आवश्यकता को समझा। उन्होंने 2011 में एनआईएफटी छोड़ा। एनआईडी और पर्ल अकादमी में अतिथि प्रोफेसर के रूप में कार्य करते हुए, उन्होंने आगे के शोध के लिए एनआईएफटी से इस्तीफा दे दिया। स्वदेशी अनुसंधान को बढ़ावा देने और इसे इच्छुक लोगों की पहुँच तक लाने की आवश्यकता को महसूस करते हुए, उन्होंने 2016 में, कई समान विचारधारा वाले लोगों के साथ, टीसीआरसी, द सेंटर फॉर टेक्सटाइल्स एंड क्लोदिंग रिसर्च, नई दिल्ली की स्थापना की। वह वर्तमान में टीसीआरसी के सचिव भी हैं। उनके ब्लॉग http://www.costumetextile-sandfashion.blogspot.com. पर उनके विचार और लेख पर पढ़े जा सकते हैं। उन्होंने शोध पत्र और पुस्तकें लिखी और सह-संपादित की हैं, उनके कुछ शोध पत्र https://glasgow.academia.e-du/ पर पढ़े जा सकते हैं। उन्होंने समाचार पत्रों, पत्रिकाओं के लिए सहापीडिया https://www.sahapedia.org/ पर भी लेख लिखे हैं। और https://www.fibre2fashion.com/के लिए। वह वर्तमान में राजस्थान कौशल विश्वविद्यालय में डिज़ाइन संकाय की डीन हैं और उन्हें सीआईआई के 2019 के डिज़ाइन विभाग के लिए बनी राष्ट्रीय समिति के सदस्य के रूप में नामित किया गया है।डॉ. तूलिका गुप्ता भारत में शिल्प और डिज़ाइन अनुसंधान को विकसित करने और बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं।


श्री गिरिराज सिंह कुशवाह

सचिव, आईआईसीडी


ईमेल आईडीः secretary@iicd.ac.in

श्री गिरिराज सिंह कुशवाहा, आईएएस (सेवानिवृत्त), ने पुरातत्व विषय में अपनी एम.फिल. और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू), अलीगढ़ से इतिहास में एम.ए. की उपाधि प्राप्त की है। भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) में अपने उत्कृष्ट कैरियर के दौरान उन्होंने विभिन्न विभागों के प्रमुख और कई जिलों के कलेक्टर और जिला मजिस्ट्रेट के पद पर काम किया। इसके अलावा, उन्होंने राजस्थान, केन्द्र सरकार और विदेश मंत्रालय के पर्यटन विभाग में लंबे समय तक काम किया है, जहाँ उन्होंने लोक कलाओं और शिल्प को काफ़ी अधिक प्रचारित किया और बढ़ावा दिया। अन्य चीज़ों में उन्होंने स्वास्थ्य, शिक्षा, वन्य जीवन और स्मारकों के संरक्षण में भी योगदान दिया है। उन्होंने विभिन्न संस्थानों और विश्वविद्यालयों में विभिन्न विषयों जैसे कि समाज और प्रशासन, स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यटन स्थलों का प्रचार और विपणन, राजस्थान के पर्यटन, कला और वास्तुकला क्षेत्र में नियोजन और विकास आदि पर व्याख्यान दिए हैं। कुछ संस्थान जहां उन्होंने व्याख्यानदिए, वे हैं इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम-के) कोलकाता, अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी बेंगलुरु, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट ग्वालियर, आदि। वह भारत सरकार द्वारा विभिन्न देशों और अमेरिकी संगठनों के लिए बनाए गये कई प्रतिनिधिमंडलों का भी हिस्सा रहे हैं। श्री कुशवाहा को फोटोग्राफी में काफी रूचि है और वे वन्यजीवों से प्रेम करते हैं। पढ़ना और यात्रा करना उनकी अन्य रुचियाँ हैं।

Pay Fee